मैं अपने से डरती हूँ सखि – माखनलाल चतुर्वेदी

कविता "मैं अपने से डरती हूँ सखि" आधुनिक भारत के प्रखर राष्ट्रवादी लेखक, कवि व विलक्षण पत्रकार पंडित माखनलाल चतुर्वेदी की कृति है. पंडित माखनलाल चतुर्वेदी का जन्म 4 अप्रैल 1889 को मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में बाबई नामक जगह पर हुआ था. पूरा पढ़ें...

मैं अपने से डरती हूँ सखि – माखनलाल चतुर्वेदी

दीप से दीप जले – माखनलाल चतुर्वेदी

कविता "दीप से दीप जले" आधुनिक भारत के प्रखर राष्ट्रवादी लेखक, कवि व विलक्षण पत्रकार पंडित माखनलाल चतुर्वेदी की कृति है. पंडित माखनलाल चतुर्वेदी का जन्म 4 अप्रैल 1889 को मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में बाबई नामक जगह पर हुआ था. पूरा पढ़ें...

दीप से दीप जले – माखनलाल चतुर्वेदी

लड्डू ले लो – माखनलाल चतुर्वेदी

कविता "लड्डू ले लो" आधुनिक भारत के प्रखर राष्ट्रवादी लेखक, कवि व विलक्षण पत्रकार पंडित माखनलाल चतुर्वेदी की कृति है. पंडित माखनलाल चतुर्वेदी का जन्म 4 अप्रैल 1889 को मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में बाबई नामक जगह पर हुआ था. पूरा पढ़ें...

लड्डू ले लो – माखनलाल चतुर्वेदी

एक तुम हो – माखनलाल चतुर्वेदी

कविता "एक तुम हो" आधुनिक भारत के प्रखर राष्ट्रवादी लेखक, कवि व विलक्षण पत्रकार पंडित माखनलाल चतुर्वेदी की कृति है. पंडित माखनलाल चतुर्वेदी का जन्म 4 अप्रैल 1889 को मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में बाबई नामक जगह पर हुआ था. पूरा पढ़ें...

एक तुम हो – माखनलाल चतुर्वेदी

समय के समर्थ अश्व – माखनलाल चतुर्वेदी

कविता "समय के समर्थ अश्व" आधुनिक भारत के प्रखर राष्ट्रवादी लेखक, कवि व विलक्षण पत्रकार पंडित माखनलाल चतुर्वेदी की कृति है. पंडित माखनलाल चतुर्वेदी का जन्म 4 अप्रैल 1889 को मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में बाबई नामक जगह पर हुआ था. पूरा पढ़ें...

समय के समर्थ अश्व – माखनलाल चतुर्वेदी

बदरिया थम-थमकर झर री ! – माखनलाल चतुर्वेदी

कविता "बदरिया थम-थमकर झर री !" आधुनिक भारत के प्रखर राष्ट्रवादी लेखक, कवि व विलक्षण पत्रकार पंडित माखनलाल चतुर्वेदी की कृति है. पंडित माखनलाल चतुर्वेदी का जन्म 4 अप्रैल 1889 को मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में बाबई नामक जगह पर हुआ था. पूरा पढ़ें...

बदरिया थम-थमकर झर री ! – माखनलाल चतुर्वेदी

पुष्प की अभिलाषा – माखनलाल चतुर्वेदी

कविता "पुष्प की अभिलाषा" आधुनिक भारत के प्रखर राष्ट्रवादी लेखक, कवि व विलक्षण पत्रकार पंडित माखनलाल चतुर्वेदी की कृति है. पंडित माखनलाल चतुर्वेदी का जन्म 4 अप्रैल 1889 को मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में बाबई नामक जगह पर हुआ था. पूरा पढ़ें...

पुष्प की अभिलाषा – माखनलाल चतुर्वेदी

कहानी – ठंडा गोश्त

कुलवन्त कौन का ऊपरी होंठ दाँतों तले किचकिचाया, उभरे हुए सीने को भँभोडा, गालों के मुंह भर-भरकर बोसे लिये और चूस-चूसकर उसका सीना थूकों से लथेड़ दिया। पूरा पढ़ें...

कहानी – ठंडा गोश्त

कहानी – पंचलाइट (पंचलैट)

गोधन पंचलैट बालना जानता है। लेकिन, गोधन का हुक्का-पानी पंचायत से बंद है। पूरा पढ़ें...

कहानी – पंचलाइट (पंचलैट)

कहानी – लाल पान की बेगम

पूर्णिमा का चाँद सिर पर आ गया है। …बिरजू की माँ ने असली रुपा का मँगटिक्का पहना है आज, पहली बार। बिरजू के बप्पा को हो क्या गया है, गाड़ी जोतता क्यों नहीं, मुँह की ओर एकटक देख रहा है, मानो नाच की लाल पान की… पूरा पढ़ें...

कहानी – लाल पान की बेगम