कुंज कुटीरे यमुना तीरे – माखनलाल चतुर्वेदी

कविता "कुंज कुटीरे यमुना तीरे" आधुनिक भारत के प्रखर राष्ट्रवादी लेखक, कवि व विलक्षण पत्रकार पंडित माखनलाल चतुर्वेदी की कृति है. पंडित माखनलाल चतुर्वेदी का जन्म 4 अप्रैल 1889 को मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में बाबई नामक जगह पर हुआ था. पूरा पढ़ें...

कुंज कुटीरे यमुना तीरे – माखनलाल चतुर्वेदी

कैदी और कोकिला – माखनलाल चतुर्वेदी

कविता "कैदी और कोकिला" आधुनिक भारत के प्रखर राष्ट्रवादी लेखक, कवि व विलक्षण पत्रकार पंडित माखनलाल चतुर्वेदी की कृति है. पंडित माखनलाल चतुर्वेदी का जन्म 4 अप्रैल 1889 को मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में बाबई नामक जगह पर हुआ था. पूरा पढ़ें...

कैदी और कोकिला – माखनलाल चतुर्वेदी

मैं अपने से डरती हूँ सखि – माखनलाल चतुर्वेदी

कविता "मैं अपने से डरती हूँ सखि" आधुनिक भारत के प्रखर राष्ट्रवादी लेखक, कवि व विलक्षण पत्रकार पंडित माखनलाल चतुर्वेदी की कृति है. पंडित माखनलाल चतुर्वेदी का जन्म 4 अप्रैल 1889 को मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में बाबई नामक जगह पर हुआ था. पूरा पढ़ें...

मैं अपने से डरती हूँ सखि – माखनलाल चतुर्वेदी

दीप से दीप जले – माखनलाल चतुर्वेदी

कविता "दीप से दीप जले" आधुनिक भारत के प्रखर राष्ट्रवादी लेखक, कवि व विलक्षण पत्रकार पंडित माखनलाल चतुर्वेदी की कृति है. पंडित माखनलाल चतुर्वेदी का जन्म 4 अप्रैल 1889 को मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में बाबई नामक जगह पर हुआ था. पूरा पढ़ें...

दीप से दीप जले – माखनलाल चतुर्वेदी

लड्डू ले लो – माखनलाल चतुर्वेदी

कविता "लड्डू ले लो" आधुनिक भारत के प्रखर राष्ट्रवादी लेखक, कवि व विलक्षण पत्रकार पंडित माखनलाल चतुर्वेदी की कृति है. पंडित माखनलाल चतुर्वेदी का जन्म 4 अप्रैल 1889 को मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में बाबई नामक जगह पर हुआ था. पूरा पढ़ें...

लड्डू ले लो – माखनलाल चतुर्वेदी

एक तुम हो – माखनलाल चतुर्वेदी

कविता "एक तुम हो" आधुनिक भारत के प्रखर राष्ट्रवादी लेखक, कवि व विलक्षण पत्रकार पंडित माखनलाल चतुर्वेदी की कृति है. पंडित माखनलाल चतुर्वेदी का जन्म 4 अप्रैल 1889 को मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में बाबई नामक जगह पर हुआ था. पूरा पढ़ें...

एक तुम हो – माखनलाल चतुर्वेदी

समय के समर्थ अश्व – माखनलाल चतुर्वेदी

कविता "समय के समर्थ अश्व" आधुनिक भारत के प्रखर राष्ट्रवादी लेखक, कवि व विलक्षण पत्रकार पंडित माखनलाल चतुर्वेदी की कृति है. पंडित माखनलाल चतुर्वेदी का जन्म 4 अप्रैल 1889 को मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में बाबई नामक जगह पर हुआ था. पूरा पढ़ें...

समय के समर्थ अश्व – माखनलाल चतुर्वेदी

बदरिया थम-थमकर झर री ! – माखनलाल चतुर्वेदी

कविता "बदरिया थम-थमकर झर री !" आधुनिक भारत के प्रखर राष्ट्रवादी लेखक, कवि व विलक्षण पत्रकार पंडित माखनलाल चतुर्वेदी की कृति है. पंडित माखनलाल चतुर्वेदी का जन्म 4 अप्रैल 1889 को मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में बाबई नामक जगह पर हुआ था. पूरा पढ़ें...

बदरिया थम-थमकर झर री ! – माखनलाल चतुर्वेदी

पुष्प की अभिलाषा – माखनलाल चतुर्वेदी

कविता "पुष्प की अभिलाषा" आधुनिक भारत के प्रखर राष्ट्रवादी लेखक, कवि व विलक्षण पत्रकार पंडित माखनलाल चतुर्वेदी की कृति है. पंडित माखनलाल चतुर्वेदी का जन्म 4 अप्रैल 1889 को मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में बाबई नामक जगह पर हुआ था. पूरा पढ़ें...

पुष्प की अभिलाषा – माखनलाल चतुर्वेदी

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी

सिंहासन हिल उठे राजवंशों ने भृकुटी तानी थी,बूढ़े भारत में आई फिर से नयी जवानी थी, खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी... पूरा पढ़ें...

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी