Banner BejodJoda.com for Swami Vivekananda

स्वामी विवेकानंद की जीवनी और उनके आदर्श

Banner BejodJoda.com for Swami Vivekananda

जीवन परिचय

नाम:नरेंद्रनाथ दत्त
जन्म:12 जनवरी 1863
स्थान:कलकत्ता (अब कोलकाता)
मृत्यु:4 जुलाई 1902 (उम्र 39)
स्थान:बेलूर मठ, बंगाल रियासत, ब्रिटिश राज (अब बेलूर, पश्चिम बंगाल में)
पिता:विश्वनाथ दत्त
माता:भुवनेश्वरी देवी
गुरु/शिक्षक:श्री रामकृष्ण परमहंस
साहित्यिक कार्य:राज योग, कर्म योग, भक्ति योग, ज्ञान योग
धर्म:हिन्दू
राष्ट्रीयता:भारतीय
शिक्षा:1884 मे बी. ए. परीक्षा उत्तीर्ण
विवाह:अविवाहित

प्रारम्भिक जीवन और परिवार

स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी सन्‌ 1863 को हुआ। उनका घर का नाम नरेंद्र दत्त था। उनके पिता श्री विश्वनाथ दत्त पाश्चात्य सभ्यता में विश्वास रखते थे। वे अपने पुत्र नरेंद्र को भी अंगरेजी पढ़ाकर पाश्चात्य सभ्यता के ढंग पर ही चलाना चाहते थे। नरेंद्र की बुद्धि बचपन से बड़ी तीव्र थी और परमात्मा को पाने की लालसा भी प्रबल थी। इस हेतु वे पहले ब्रह्म समाज में गए किंतु वहाँ उनके चित्त को संतोष नहीं हुआ। सन्यास धारण करने से पहले स्वामी विवेकानंद का नाम नरेन्द्रनाथ दत्त था और वो नरेन के नाम से भी जाने जाते थे। आपका परिवार धनी, कुलीन और उदारता व विद्वता के लिए विख्यात था । विश्वनाथ दत्त कोलकाता उच्च न्यायालय में अटॅार्नी-एट-लॉ (Attorney-at-law) थे व कलकत्ता उच्च न्यायालय में वकालत करते थे। वे एक विचारक, अति उदार, गरीबों के प्रति सहानुभूति रखने वाले, धार्मिक व सामाजिक विषयों में व्यवहारिक और रचनात्मक दृष्टिकोण रखने वाले व्यक्ति थे । भुवनेश्वरी देवी सरल व अत्यंत धार्मिक महिला थीं ।

Swami Vivekananda quote on shortcomings

नरेंद्र के पिता पाश्चात्य सभ्यता में विश्वास रखते थे। वे अपने पुत्र नरेन्द्र को भी अँग्रेजी पढ़ाकर पाश्चात्य सभ्यता के ढर्रे पर चलाना चाहते थे। नरेन्द्र की बुद्धि बचपन से तीव्र थी और परमात्मा में व अध्यात्म में ध्यान था। इस हेतु नरेंद्र पहले ‘ब्रह्म समाज' में गये किन्तु वहाँ उनका चित्त संतुष्ट न हुआ। इस बीच वो कलकत्ता विश्वविद्यालय से बी.ए उत्तीर्ण कर लिए और कानून की परीक्षा की तैयारी करने लगे। इसी समय में वो धार्मिक व अध्यात्मिक संशयों की निवारण हेतु अनेक लोगों से मिले लेकिन कहीं भी उनके शंकाओं का समाधान न मिला।

नरेंद्र दत्त और स्वामी रामकृष्ण परमहंस

एक दिन नरेंद्र के एक संबंधी ने उनको रामकृष्ण परमहंस के पास ले गये। स्वामी रामकृष्ण परमहंस ने नरेन्द्रदत्त को देखते ही पूछा, "क्या तुम धर्म विषयक कुछ भजन गा सकते हो?"

नरेन्द्रदत्त ने कहा, "हाँ, गा सकता हूँ।"

फिर नरेन ने दो-तीन भजन अपने मधुर स्वरों में गाए। आपके भजन से स्वामी परमहंस अत्यंत प्रसन्न हुए। तभी से नरेन्द्रदत्त स्वामी परमहंस का सत्संग करने लगे और उनके शिष्य बन गए। अब आप वेदान्त मत के दृढ़ अनुयायी बन गए थे।

Swami Ramkrishna Paramhans and Swami Vivekananda
स्वामी रामकृष्ण परमहंस और स्वामी विवेकानंद

सन्‌ 1884 में श्री विश्वनाथ दत्त की मृत्यु हो गई। घर का भार नरेंद्र पर पड़ा। घर की दशा बहुत खराब थी। कुशल यही थी कि नरेंद्र का विवाह नहीं हुआ था। अत्यंत गरीबी में भी नरेंद्र बड़े अतिथि-सेवी थे। स्वयं भूखे रहकर अतिथि को भोजन कराते, स्वयं बाहर वर्षा में रातभर भीगते-ठिठुरते पड़े रहते और अतिथि को अपने बिस्तर पर सुला देते। रामकृष्ण परमहंस की प्रशंसा सुनकर नरेंद्र उनके पास पहले तो तर्क करने के विचार से ही गए थे किंतु परमहंसजी ने देखते ही पहचान लिया कि ये तो वही शिष्य है जिसका उन्हें कई दिनों से इंतजार है। परमहंसजी की कृपा से इनको आत्म-साक्षात्कार हुआ फलस्वरूप नरेंद्र परमहंसजी के शिष्यों में प्रमुख हो गए। संन्यास लेने के बाद इनका नाम विवेकानंद हुआ।

आदर्श शिष्य और गुरुभक्ति का पाठ

16 अगस्त 1886 को स्वामी परमहंस परलोक सिधार गये। स्वामी विवेकानन्द अपना जीवन अपने गुरुदेव स्वामी रामकृष्ण परमहंस को समर्पित कर चुके थे। गुरुदेव के शरीर-त्याग के दिनों में अपने घर और कुटुम्ब की नाजुक हालत की परवाह किए बिना, स्वयं के भोजन की परवाह किए बिना गुरु सेवा में सतत हाजिर रहे। गुरुदेव का शरीर अत्यंत रुग्ण हो गया था। कैंसर के कारण गले में से थूंक, रक्त, कफ आदि निकलता था। इन सबकी सफाई वे खूब ध्यान से करते थे।

Swami Vivekananda quote on courage

एक बार किसी ने गुरुदेव की सेवा में घृणा और लापरवाही दिखाई तथा घृणा से नाक भौंहें सिकोड़ीं। यह देखकर विवेकानन्द को गुस्सा आ गया। उस गुरुभाई को पाठ पढ़ाते हुए और गुरुदेव की प्रत्येक वस्तु के प्रति प्रेम दर्शाते हुए उनके बिस्तर के पास रक्त, कफ आदि से भरी थूकदानी उठाकर पूरी पी गए। गुरु के प्रति ऐसी अनन्य भक्ति और निष्ठा के प्रताप से ही वे अपने गुरु के शरीर और उनके दिव्यतम आदर्शों की उत्तम सेवा कर सके। गुरुदेव को वे समझ सके, स्वयं के अस्तित्व को गुरुदेव के स्वरूप में विलीन कर सके। समग्र विश्व में भारत के अमूल्य आध्यात्मिक खजाने की महक फैला सके। उनके इस महान व्यक्तित्व की नींव में थी ऐसी गुरुभक्ति, गुरुसेवा और गुरु के प्रति अनन्य निष्ठा।

भारत भ्रमण और विश्वप्रसिद्धि - अमेरिका स्थित शिकागो में उनका भाषण

25 वर्ष की अवस्था में नरेंद्र दत्त ने गेरुआ वस्त्र पहन लिए। 1887 से 1892 के बीच स्वामी विवेकानन्द अज्ञातवास में एकान्तवास में साधनारत रहने के बाद भारत-भ्रमण पर रहे। उस दौरान वो पैदल ही पूरे भारतवर्ष की यात्रा की। स्वामी विवेकानंद वेदान्त और योग को पश्चिम संस्कृति में प्रचलित करने के लिए महत्वपूर्ण योगदान देना चाहते थे। स्वामी विवेकानंद वेदान्त के विख्यात और प्रभावशाली आध्यात्मिक गुरु थे। सन्‌ 1893 में शिकागो (अमेरिका) में विश्व धर्म परिषद् हो रही थी। स्वामी विवेकानंदजी उसमें भारत के प्रतिनिधि के रूप से पहुंचे। योरप-अमेरिका के लोग उस समय पराधीन भारतवासियों को बहुत हीन दृष्टि से देखते थे। वहां लोगों ने बहुत प्रयत्न किया कि स्वामी विवेकानंद को सर्वधर्म परिषद् में बोलने का समय ही न मिले। एक अमेरिकन प्रोफेसर के प्रयास से उन्हें थोड़ा समय मिला किंतु उनके विचार सुनकर सभी विद्वान चकित हो गए।

Swami Vivekananda quote on fire

फिर तो अमेरिका में उनका बहुत स्वागत हुआ। वहां इनके भक्तों का एक बड़ा समुदाय हो गया। तीन वर्ष तक वे अमेरिका रहे और वहाँ के लोगों को भारतीय तत्वज्ञान की अद्भुत ज्योति प्रदान करते रहे। 'अध्यात्म-विद्या और भारतीय दर्शन के बिना विश्व अनाथ हो जाएगा' यह स्वामी विवेकानंदजी का दृढ़ विश्वास था। अमेरिका में उन्होंने रामकृष्ण मिशन की अनेक शाखाएं स्थापित कीं। अनेक अमेरिकन विद्वानों ने उनका शिष्यत्व ग्रहण किया।

शिकागो के पार्लियामेंट्री ऑफ़ रिलीजंस में स्वामी विवेकानंद
शिकागो के पार्लियामेंट्री ऑफ़ रिलीजंस में स्वामी विवेकानंद

स्वामी विवेकानंद ने अमेरिका स्थित शिकागो में 1893 में आयोजित विश्व धर्म महासभा में भारत की ओर से सनातन धर्म का प्रतिनिधित्व किया था। भारत का वेदान्त अमेरिका और यूरोप के हर एक देश में स्वामी विवेकानन्द के कारण ही पहुँचा। उन्होंने रामकृष्ण मिशन की स्थापना की जो आज भी अपना काम कर रहा है। आप स्वामी रामकृष्ण परमहंस के सुयोग्य व प्रतिभावान शिष्य थे। आपको अमेरिका में दिए गए अपने भाषण की शुरुआत "मेरे अमेरिकी भाइयों एवं बहनों" के लिए जाना जाता है.

देहावसान (मृत्यु)

अपने जीवन के अंतिम दिनों में स्वामी जी ने “शुक्ल यजुर्वेद” की व्याख्या की और कहा, भारतवर्ष को एक और विवेकानंद चाहिए. 4 जुलाई 1902 अपनी जिंदगी के अंतिम दिन को भी उन्होंने अपनी रोज की दिनचर्या को नहीं बदला ध्यान करने बैट गए और ध्यान करने की मुद्रा में ही समाधी ले ली.

Swami Vivekananda quote on honest and energetic males and females

स्वामी विवेकानंद के अनमोल विचार जानने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए और उनका शिकागो वाला भाषण पढ़ने के लिए यहाँ.

आपको हमारे आर्टिकल्स आपको पढ़ने में कैसे लगते हैं आप हमें हमारे ईमेल या फिर फेसबुक और ट्विटर के माध्यम से बता सकते हैं. हमारे लेटेस्ट अपडेट को पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक और ट्विटर पर फॉलो ज़रूर करें. आप हमारे वीडियोज देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्स्क्राइब कर सकते हैं.

Leave a Reply